Bindusara

Bindusara

‌‌‌‌‌‌‌बिन्दुसार
चन्द्रगुप्त का उत्तराधिकारी बिन्दुसार था।
बिन्दुसार अमित्रधात उपाधि धारण करके 298 र्इ. पू. में गद्दी पर बैठा।
बिन्दुसार के अन्य नाम अमित्रकेटे, अल्लित्रोशेड़स, अमित्र सिहसेन आदि थे।
सेल्यूकस के उत्तराधिकारी एण्टीकोआस ने डेइमेकस को दूत बिन्दुसार के दरबार में भेजा।
बिन्दुसार ने सारिया के राजा का मदिरा,अजीर और दार्शनिक की मॉग मान ली। पर दार्शनिक की मॉग पूरा नही कर सका था।
डायोनिसास को बिन्दुसार के पास राजदूस के रूप में भेजा।जो कि मिस्र के शासक टोलेमी ने भेजा था।
बिन्दुसार आजीवक सम्प्रदाय का अनुयायी था।
बिन्दुसार का मुत्यु 273 र्इ.पू. मे हुर्इ।